खुद ही गाड़ी चलाकर वाराणसी जिला अस्पताल पहुंचे डिप्टी सीएम, मची अफरा-तफरी

खुद ही गाड़ी चलाकर वाराणसी जिला अस्पताल पहुंचे डिप्टी सीएम, मची अफरा-तफरी

# अकेले घूमकर देखी व्यवस्था, सीएमएस को लगाई जमकर फटकार

वाराणसी।
आर एस वर्मा
तहलका 24×7
                वाराणसी दौरे पर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री और प्रदेश के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक शनिवार सुबह अलग अंदाज में दिखे। वो खुद ही गाड़ी चला कर दीनदयाल उपाध्याय जिला अस्पताल पहुंच गए। यहां उन्होंने रजिस्ट्रेशन काउंटर से लेकर इमरजेंसी वार्ड सहित अन्य जगहों पर घूमकर मरीजों के इलाज की सुविधाओं की हकीकत का जायजा लिया।
करीब 10 मिनट तक स्वास्थ्य मंत्री अस्पताल परिसर में घूमते रहे लेकिन किसी को भनक तक नहीं लगी। जैसे ही लोगों ने पहचाना तो हड़कंप मच गया। अस्पताल परिसर में वार्ड से लेकर अन्य जगहों पर गंदगी देखने के बाद ब्रजेश पाठक ने सीएमस को कड़ी फटकार लगाई। डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक कुर्ता पायजमा की जगह शर्ट और पैंट पहनकर आम आदमी की तरह अस्पताल पहुंचे थे। शुक्रवार शाम उन्होंने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हरहुआ का भी निरीक्षण किया था। खामियां मिलने के बाद संबंधित अधिकारियों को फटकार लगाई थी।
शनिवार सुबह दीनदयाल उपाध्याय जिला के सीएमएस के कमरे में पहुंचकर स्वास्थ्य मंत्री और प्रदेश के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की उपस्थिति रजिस्टर की जांच की। इस दौरान छुट्टी पर रहने वालों के बारे में सीएमएस से स्पष्टीकरण तलब किया। इसके साथ ही ऑक्सीजन प्लांट और मरीजों के जांच, इलाज की व्यवस्थाओं के बारे में पूरी जानकारी ली। अस्पताल परिसर स्थित ट्रॉमा सेंटर में डिजिटल एक्सरे को देखने के लिए डिप्टी सीएम ने जब एक्सरे कक्ष को देखने की इच्छा जताई तो पता चला कि ताला बंद है। करीब 10 मिनट तक वह चाबी आने का इंतजार करते रहे। जब चाबी नहीं मिली तो नाराज होकर वापस लौट गए।

डिप्टी सीएम और स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक के निरीक्षण के दौरान अस्पताल परिसर में वार्ड से लेकर अन्य जगहों पर गंदगी देखने को मिली। इस पर उन्होंने सीएमएस को कड़ी फटकार लगाई। साथ ही हर दिन निरीक्षण कर साफ-सफाई के साथ ही मरीजों की सुविधाओं की नियमित मॉनिटरिंग करते रहने का निर्देश दिया। निरीक्षण के दौरान बाहर की दवा लिखने की शिकायत पर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को हिदायत दी कि व्यवस्था सुधार लें अन्यथा कार्यवाही के लिए तैयार रहे।
जन औषधि केंद्र पर मिलने वाली दवाओं को नहीं लिखने पर अस्पताल प्रशासन को चेतावनी दी। जितनी देर डिप्टी सीएम अस्पताल में रहे उतनी देर तक कर्मियों में अफरातफरी की स्थिति रही। डिप्टी सीएम ने कहा कि अस्पताल में चिकित्सकों और पैरामेडिकल स्टाफ की समय पर उपस्थिति, बेहतर सेवा पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। इसमे किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नही होगी। इस दौरान सीएमओ डॉक्टर संदीप चौधरी भी मौजूद रहे।

लाईव विजिटर्स

27332497
Live Visitors
Today Hits

Earn Money Online

Previous articleजौनपुर : रक्तदान कर बचाई एक मरीज की जान
Next articleसोनभद्र : कोयले के बाद अब परियोजनाओं में गहराया पानी का संकट
तहलका24x7 की मुहिम... "सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏