गाजीपुर : पत्रकार उत्पीड़न मामले मे मध्यस्तता करवाने मे लगे बड़े पत्रकार

गाजीपुर : पत्रकार उत्पीड़न मामले मे मध्यस्तता करवाने मे लगे बड़े पत्रकार

# वायरल हुआ पत्रकारों को 350 ग्राम गांजा में फंसाने का ऑडियो

खानपुर।
अंकित मिश्रा
तहलका 24×7
              गत एक माह से खानपुर पुलिस द्वारा स्थानीय पत्रकार के उत्पीड़न का मामला दिन पर दिन तूल पकड़ता चला जा रहा हैं, जबकि इस सम्बन्ध में स्थानीय पत्रकारों ने जिले के पूर्व एसपी रामबदन व एडिजी जोन वाराणसी को शिकायत पत्र देकर अवगत करवाया था।

आपके बताते चले कि पिछले माह बीस जून को खानपुर थाने मे तैनात सिपाही फूलचंद यादव द्वारा स्थानीय पत्रकार अंकित मिश्रा व माधवेन्द्र सिंह अभद्र व्यवहार करते हुए कहा गया था कि “फटा पोस्टर निकला हीरो मारेंगे एक थप्पड़ गिर जाओगे” इस मामले मे स्थानीय पत्रकारों ने गाज़ीपुर जनपद के पूर्व एसपी रामबदन को लिखित शिकायत देकर पत्रकार उत्पीड़न मामले मे अवगत करवाया था। मगर दुर्भाग्य यह रहा कि ज़ब तक कोई कार्यवाही होती उनका ट्रांसफर होगा गया। वही बीते 18 जुलाई को खानपुर थाने के सीसीटिएनएस मे तैनात सिपाही प्रिंस कुमार द्वारा पत्रकारों से उनके पत्रकार होने का सर्टिफिकेट मांगे जाने लगा और ज़ब इस सम्बन्ध उनसे पूछा गया कि ये पत्रकारो सर्टिफिकेट मांगने का किसका आदेश है तो सिपाही ने बताया कि ये आदेश बड़े साहब के द्वारा दिया गया हैं। वही इस सम्बन्ध मे ज़ब थानाध्यक्ष खानपुर संजय मिश्रा से बात की गयीं तो उन्होंने बात को बदलते हुए कहा कि आप लोग थाने मे कहीं और न जाकर सीधे हमसे मिला कीजिये।

# आखिरकार क्यों चल रहें हैं थानाध्यक्ष पत्रकारों से नाराज

खानपुर क्षेत्र मे हो रहे अवैध खनन की खबर को खानपुर के स्थानीय पत्रकार अंकित मिश्रा व माधवेन्द्र सिंह के द्वारा काफ़ी प्रमुखता से प्रकाशित किया गया। जिसके बाद खनन माफियाओ द्वारा स्थानीय पत्रकार के घर जाकर खबर न लिखने की धमकियां मिलने लगी वहीं ज़ब स्थानीय पत्रकारों ने इस सम्बन्ध मे खानपुर थानाध्यक्ष को अवगत करवाया और लिखित शिकायत दी तो उनके द्वारा खनन माफियाओ को थाने मे बुलाकर पंचायत करवाई गयीं और पत्रकारों द्वारा दी गयीं लिखित शिकायत को चार बार बदलवाया गया। वहीं उसके बाद स्थानीय संवाददाताओ द्वारा क्षेत्र मे हो रही चोरियों और क्राइम की खबरों को काफ़ी प्रमुखता से प्रकाशित किया गया जिससे खार खाये थानाध्यक्ष खानपुर संजय मिश्रा ने पत्रकारों से बदसूलकी शुरू कर दी। मामला इतना बढ़ गया कि पत्रकार न्याय के लिए जिले व वाराणसी कमीश्नर के चक्कर लगाते हुए मामले की जांच कर उचित कार्यवाही की मांग करने लगे। इस मामले में खानपुर के एक अन्य संवाददाता मध्यस्तता करवाने और मामले के समझौता मे जुट गये जिसमें पत्रकारों को खबर न लिखने और फर्जी मुकदमे मे फ़साने की साजिश शुरू हो गयीं।

# पत्रकारों को 350 ग्राम गांजा मे फंसाने की रची जा रही साजिश, वायारल हुआ ऑडियो

खानपुर पुलिस और बिचौलियों द्वारा ज़ब पत्रकारों के मामले को तूल पकड़ता देखा गया तो दोनों पत्रकारों को 350 ग्राम गांजे मे फंसाने की साजिश रची जाने लगी।एक दैनिक अख़बार के संवाददाता द्वारा बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया जिसमें जनसंदेश खानपुर के संवाददाता माधवेन्द्र सिंह से बातचीत मे कहा गया कि बीती रात मेरे यहां दो विभाग के लोग आये पत्रकार उत्पीड़न मामले मे बातचीत के दौरान कहा गया कि अगर मामले को रफा-दफा नहीं किया गया तो स्थानीय पुलिस या अन्य थानों की मदद से दोनों पत्रकारों को 350 ग्राम गांजा तस्करी मे जेल भेज देगा। दोनों लोगो का बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया जिसमें स्थानीय पत्रकारों मे हड़कंप मच गया।
Previous articleजौनपुर : पत्रकार से प्रधान बने संतलाल सोनी को कायाकल्प के क्षेत्र में मिला प्रशस्ति पत्र
Next articleजौनपुर : सत्येन्द्र राय बनाए गए विन्ध्य जोन के प्रभारी, अटेवा ने जताई खुशी
तहलका24x7 की मुहिम..."सांसे हो रही है कम, आओ मिलकर पेड़ लगाएं हम" से जुड़े और पर्यावरण संतुलन के लिए एक पौधा अवश्य लगाएं..... 🙏